सेल्फ हेल्प टिप्स जो नकारात्मक विचार को दूर कर सकारात्मक विचार पैदा करेंगे

Views:85350

निराशावादी विचार एक बार दिमाग में घुस कर जाए तो यह दीमक की तरह उस व्यक्ति को खा जाता है। निराशा से घिरा व्यक्ति अपनी परिस्थितियों के आगे जल्दी हार मान जाता है और कई बार तो वह निराशा से इतना अधिक घिर जाता है कि वह आत्महत्या तक का फैसला ले लेते है।


आत्महत्या का फैसला करना डीप्रेशन से जुडी एक बीमारी है जिसका इलाज सकारात्मक विचारों से संभव है। आज की युवा पीढ़ी की बात करें तो वह अपने काम और जिम्मेदारियों को लेकर जल्दी तनाव में आ जाते है और एक सर्वे की मुताबिक युवा लोग आज ज्यादा आत्महत्या कर रहे है। अगर आपके किसी साथी या आप को ऐसा प्रतीत हो कि आपकी मानसिक अस्वस्थता भी नकारात्मक होती जा रही है और आप जिन्दगी से परेशान है तो जिन्दगी से परेशान लोगो के लिए कुछ ऐसे सुझाव शेयर कर रहे है जिसे अपनाकर वह ना सिर्फ निराशा को भगा सकते है बल्कि अपने अनमोल जीवन में ख़ुशी का प्रसार में कर सकते है।





किताबें : जीवन में जब भी आप बुरे दौर या गहन निराशा से गुजरे आप किताबों का सहारा ले यकीन करिए आपके बुरे दौर में पुस्तकें आपकी सच्ची मित्र साबित होंगी और आपको बुरे दौर से निकाल कर आपको पहले से अधिक खुशहाल बना देंगी। आप सेल्फ हेल्प के लिए अच्छे विचारों वाले कोट्स की किताबें,बड़े विद्वानों की जीवनिया या अन्य अच्छी सेल्फ हेल्प की किताबें पढ़ सकते है। उदाहरण के तौर पर आप रहस्य द सीक्रेट,जीत आपकी,अबुदल कलाम द्वारा लिखी मेरी जीवन यात्रा आदि कई अन्य पुस्तकें चुन सकते है।





ध्यान योग : योग एक ऐसी क्रिया है जो आपको शारीरिक ही नही मानसिक रूप से भी मजबूत बनाता है। इन्ही योगो में से जब आप ध्यान योग की शरण में जाते है तो कुछ क्षणों के लिए सब कुछ भूल जाते है। ध्यान योग की क्रिया करने से मस्तिष्क में नई ऊर्जा का संचार होता है और आपको मानसिक रूप से बल प्राप्त होता है जिस कारण आप व्यर्थ की चिंता से बाहर निकल पाते है और आपकी बॉडी में एक सकारात्मक उर्जा का प्रवाह होता है।





मुस्कान : जब निराशा आपको घेर लेती है तो चेहरे पर मुस्कान लाना आसान नही होता है पर एक बार मिले जीवन को बचाने के लिए मुस्कराना कोई महंगा सौदा नही है। आप शुरू में सप्ताह के दो दिन अपने लिए चुनिए इन दो दिनों में आपको कुछ ज्यादा नही करना है बस आपको दर्पण के सामने अपने आप को मुस्कराते हुए देखना है। अगर आप अपने आप को इस काम के लिए मजबूर कर पाते है तो यह मूड बदलने और तनाव से छुटकारा पाने में आपकी मदद कर सकता है। 





सकारात्मक सोच वाले लोगों को चुने : जब भी आपको लगे कि आप निराशावादी विचारो के भवर में फंस रहे तो फौरन अपने उन दोस्तों को याद करिये जो मुश्किल से मुश्किल समय में घबराते नही है और खुद पर विश्वास कायम रखते है। अगर आपको आपकी मनोदशा ज्यादा खराब लगती है तो आप उनसे मिलने उनके घर पहुच जाइए। इसके अलावा अगर आपका कोई भी परिजन ऐसा है जो अक्सर निराशावादी विचार आपके सामने पेश करता है तो फौरन उसका साथ सकारात्मक सोच आने तक छोड़ दीजिए।


अपना जीवन बनाने और बचाने के लिए जिम्मेदारी लें : मैं फंस गया था, उसने मेरा साथ नही दिया,मेरे साथ ही ऐसा क्यों होता है ऐसे वाक्यों को अपने जीवन से निकाल कर बाहर फेक दीजिए। जीवन की स्थिति तब दयनीय हो जाती है जब हम बुरे काम का फल दूसरों पर देने लगते है। जीवन में परिवर्तन एक नियम है इसलिए आपकी जीवन  स्थिति में भी परिवर्तन आते रहते है कई बार वह हमारे लिए अच्छे होते है और कई बार बहुत बुरे इसलिए आपके जीवन में अच्छा हो या बुरा आप खुद पर तरस खाने की जगह उसकी जिम्मेदारी खुद ले। ऐसा करने से आपका आत्मबल बढेगा और जीवन में  नकारात्मक स्थिति से लड़ने का बल मिलेगा।





दूसरों की मदद करें : कई बार हो सकता है आप आर्थिक स्थिति के कारण किसी की मदद ना कर पाते हो शारीरिक रूप से तो आप किसी की मदद कर सकते है। किसी और की मदद करने से आपको बेहतर महसूस होगा और साथ में आपका खुद पर विश्वास भी बढेगा जो निराशावादी विचारो की वजह से अकसर खो जाता है।


कोई परफेक्ट नही होता : गलतियों पर ध्यान केन्द्रित करना सबसे आसान और बेफिजूल का काम है इसलिए आप अपना कीमती समय अपनी अंदर की कमियां ढूंढने में बर्बाद ना करें। जीवन में आप अपनी गलतियों से सीखते चले और उन्हें दोहराए नही यही काफी होता है क्योकि एक बात आप गांठ बांध लीजिये इस संसार में कोई परफेक्ट नही होता है। करोड़ो के मालिक भी अपनी कंपनी में करोड़ो का घटा खा जाते है इसलिए अगर आपसे कोई गलती हो गई है तो निराश होने की जगह उसे ना दोहराने का संकल्प ले आगे बढे और जीवन में अपने लिए नए पैमाने तय करें।


उपरोक्त सभी बातों के अपनाने के बाद भी या आपको लगता है आपकी मनोदशा अधिक खराब है और नकारात्मक विचार आपका पीछा नही छोड़ रहे है तो आप साइकैट्रिस्ट से सम्पर्क कर आत्महत्या जैसी परिस्थिति से बाहर निकल सकते है।

और पढ़े

Comment Box

    User Opinion
    Your Name :
    E-mail :
    Comment :

Category

अच्छे और सफल पिता बनने के नियम


आँख से संपर्क


कार्यालय


किशोर


कॉलेज


गर्लफ्रेंड समस्याएं


चुंबन


डेटिंग टिप्स


त्यौहार


दुल्हे और दुल्हन


दोस्त


नवजात बेबी के परवरिश करने के टिप्स


पति और पत्नी


पिता


पुरुष


पुरुषों के टिप्स


प्यार


प्रेम


फोरप्ले


फ्लर्ट


बच्चे


मर्दों के लिए टिप्स


महिला


महिलाओ के लिये टिप्स


रिलेशनशिप


रोमांस


लड़का


लड़कियों के बात करने के टिप्स


लड़कियों के लिये टिप्स


लड़की


लव बाइट


वयस्क


वर्जिनिटी


विवाह


वेलेंटाइन


शादी का दिन


सिड्‍यूस विज्ञान


सुबह सेक्स के लिए टिप्स


सुहागरात


सेक्स


सेल्फ हेल्प टिप्स


हिक्की


होठ


पति और पत्नी रिलेशनशिप


पुरुष


बॉयफ्रेंड और गर्लफ्रेंड


रोमांटिक


शादीशुदा जिंदगी


शादीशुदा जीवन में तनाव


स्त्री / महिला