अपने इमोशन को इंटेलीजेंट बनाने की सिंपल तरीके

Views:4500

दुनिया में हर पुरुष महिला अपने इमोशन के आधार पर ही व्यवहार करता है इसलिए सभी के जीवन में इमोशन का ख़ास महत्व है। किसी भी मनुष्य की भावनाएं जब अनियंत्रित होती हैं तो उसका असर उनके व्यक्तित्व पर पड़ता है।



नियमित रूप से इमोशन अनियंत्रित होने पर स्ट्रेस और डिप्रेशन जैसे मानसिक रोग शुरू होते है। नियमित व्यावहारिक कौशल बढ़ाने के प्रयास के बाद ही आप बुद्धिमान रूप से इमोशन पर काबू रख सकते है। जब हम नाराज होते हैं तो आवाज अधिक होती है लेकिन एक बुद्धिमान व्यक्ति दूसरों के इमोशन के साथ-साथ खुद के इमोशन पर ही काबू रखता है और गुस्से में अपनी आवाज को और भी शांत कर देता है इसलिए वह दूसरों के साथ सहानुभूति रखने में कामयाब हो पाते है और लोग भी उनका सम्मान करते है। आइयें जानतें है कि अपने इमोशन को कैसे काबू कर इंटेलीजेंट बन सकते है।


अपने इमोशन पर नजर रखें : बुद्धिमान लोग दूसरों के इमोशन के साथ-साथ अपने इमोशन पर भी नजर रखतें है वह खुद को अच्छी तरह से समझते है इसलिए अपने इमोशन को समझने, प्रबंधित करने और प्रभावी रूप से व्यक्त करने में अभ्यास के द्वारा सक्षम हो जाते है। यदि आप भी अपने इमोशन को अच्छे से समझ लें तो फिर उनको प्रबंधित करना सीख सकते हैं।


किन विशिष्ट परिस्थितियों में आप कैसा इमोशन रखते है इस बात पर आपको नियमित रूप से ध्यान देना चाहिए और आप इसमें अपने बेहतरीन दोस्त या परिवार के सदस्य की भी मदद ले सकते है। भावुक होने पर ,गुस्सा होने पर और तो और खुश होने पर कैसा व्यवहार करते है इसकी अच्छी जानकारी होनी आपके लिए बहुत जरूरी है क्योकि जितना अधिक आप अपने इमोशन और व्यवहार की पहचान करेंगे उतना ही आप प्रबंधित कर सकेंगे।


खुद को जज ना करें : जब आप अपने इमोशन पर नजर रखना शुरू करते है तो आपको लगता है कि आप अच्छा नही कर रहे है और तब ऐसा अधिक होता है जब नकारात्मक इमोशन का सामना करते हैं। उदाहरण के तौर पर क्रोध और उदास होने पर आपको हमेशा यह प्रतीत होता है आप दूसरों की अपेक्षा अधिक बुरे है। यदि आप जल्द से जल्द अपने इमोशन पर काबू करने का प्रयास करेंगे तो आपको बहुत परेशानी होगी।


सबसे मुश्किल नेगेटिव इमोशन का प्रबंध करना होता है। आप कैसा महसूस करते हैं इसके प्रति ईमानदारी रखें और बुरे इमोशन को महसूस करने और दूर करने के लिए वक्त को पूर्ण अनुमति दे इस तरह बिना जज किए आप उन्हें बेहतर ढंग से प्रबंधित कर सकेंगे।


नेगेटिव इमोशन को कंट्रोल करें : अपनी भावनाओं को प्रभावी ढंग से प्रबंधित करने के लिए इमोशन पर बुद्धि से काबू करने का प्रयास करें और सबसे बड़ी कठिनाई तब आयेंगी जब आप नेगेटिव इमोशन को काबू करने का प्रयास कर रहे होंगे।


नेगेटिव इमोशन का प्रबंधन करने के लिए शांत और तर्कसंगत तरीके से समाधान खोजने का प्रयास करें। नियमित फीडबैक आपके इमोशन को लचीला और बेहतर बनाने में मदद करेगा इसके अतिरिक्त आप आलोचना सहने में भी सक्षम होंगे। अगली बार जब आप नेगेटिव इमोशन को महूसस कर रहे हो तो कुछ पल शांत रह कर एक गहरी सांस लीजिए और बाद में पानी पीने के बाद ही कोई निर्णय लें।


खुद को मोटीवेट करें : इमोशन पर अपना नियंत्रण बनाने के लिए जरूरी है कि खुद को मोटीवेट रखें। यदि आप चुनौती से प्यार करते हैं तो आप इमोशन का बुद्धिमानी से प्रयोग करने में प्रभावी होंगे। लंबे समय तक की सफलता के लिए जरूरी है की तत्काल परिणाम का त्याग कर असफलताओं का नजरंदाज कर दें।


खुद को नियंत्रित करने का प्रयास नियमित करें : जो लोग इमोशन पर नियमित नजर रखते है वह उनके आवेग में बहते नही है। खुद को गुस्सा या ईर्ष्यापूर्ण होने की इजाजत ना दें विचारशीलता, परिवर्तन की मदद से नियमित रूप से खुद को न कहने की क्षमता पैदा करें और आप भवनाओं में बहाव में ना आएं इसलिए जरूरी है कि आप इसका अभ्यास नियमित रूप से करते रहें।


जिम्मेदारी लें : अपने कामों की जवाबदेही खुद लें। यदि आप किसी को इमोशनली चोट पहुँचाते हैं तो सीधे माफी मांगें। आप अपनी गलतियों को अनदेखा न करें। आम तौर पर लोग माफ करने और भूलने के लिए अधिक तैयार होते हैं लेकिन यदि आप चीजों को ठीक करने का प्रयास पूरी ईमानदारी से करते है।


सोशल स्किल : मजबूत सोशल कौशल रखने वाले आमतौर पर टीम के खिलाड़ी की तरह होते है और वह स्वयं की सफलता पर ध्यान देने की बजाय दूसरों को विकसित करने और चमकने में मदद करते हैं। वे विवाद का प्रबंधन करने में सफल रहते है और रिश्ते बनाए रखने का महत्व अधिक देते है। अच्छे सोशल स्किल इमोशन को नियंत्रित रखने में योगदान देते है।


अपनी बॉडी लैंग्वेज पर ध्यान दें : कई बार हम अपने इमोशन को बिना बोले अपन बॉडी लैंग्वेज से जाहिर कर देते है जब आप किसी के साथ बातचीत कर रहे हो तो बॉडी लैंग्वेज पर एक ध्यान जरुर दें। चेहरे का भाव और हाथों के तरीके आपके मूड को जाहिर कर देते है। मानसिक भावनाओं के साथ-साथ बॉडी लैंग्वेज पर नजर रखने से इमोशन को नियंत्रित रखने में मदद मिलती है।

Emotionally Intelligent

Comment Box

    User Opinion
    Your Name :
    E-mail :
    Comment :

Most Popular Relationship Articles

Most Popular Facts

Most Popular Health Post

Category

अच्छे और सफल पिता बनने के नियम


आँख से संपर्क


कार्यालय


किशोर


कॉलेज


गर्लफ्रेंड समस्याएं


चुंबन


डेटिंग टिप्स


त्यौहार


दुल्हे और दुल्हन


दोस्त


नवजात बेबी के परवरिश करने के टिप्स


पति और पत्नी


पिता


पुरुष


पुरुषों के टिप्स


प्यार


प्रेम


फोरप्ले


फ्लर्ट


बच्चे


मर्दों के लिए टिप्स


महिला


महिलाओ के लिये टिप्स


रिलेशनशिप


रोमांस


लड़का


लड़कियों के बात करने के टिप्स


लड़कियों के लिये टिप्स


लड़की


लव बाइट


वयस्क


वर्जिनिटी


विवाह


वेलेंटाइन


शादी का दिन


सिड्‍यूस विज्ञान


सुबह सेक्स के लिए टिप्स


सुहागरात


सेक्स


सेल्फ हेल्प टिप्स


हिक्की


होठ


इमोशन को इंटेलीजेंट बनाने की सिंपल तरीके


पति और पत्नी रिलेशनशिप


पहली बार सेक्स करने के टिप्स


पुरुष


बॉयफ्रेंड और गर्लफ्रेंड


रोमांटिक


शादीशुदा जिंदगी


शादीशुदा जीवन में तनाव


सेक्स की संतुष्टि के लिए टिप्स


स्त्री / महिला


Back to Top