ऑफिस में इन विषयों पर करें मौन धारण

Views:32400

अगर आप व्यक्तिगत स्तर पर अपने ऑफिस में सहकर्मियों के साथ एक मजबूत रिश्ता बनाने का प्रयास कर रहे तो आपको सलाह दी जाती है कि आप अपने और सहकर्मियों के बीच हमेशा एक लाइन बना कर रखें। आप ऑफिस में कुछ भी बोलते समय और किसी पर भी भरोसा करने से पहले दो बार सोचें इसके अतिरिक्त अपनी कुछ बातें अपने तक ही सीमित रहने दें।


नीचे कुछ ऐसी सूचि दी गयी है जो कार्यस्थल पर प्रकट नहीं करना चाहिए और ये आदतें अपनाने के बाद आपके करियर में सकरात्मक बदलाव नजर आयेंगे।



अयोग्यता : आपकी तरह आपकी टीम के सदस्य हो सकता है ईमानदारी से काम ना करते हो या फिर आपके सहकर्मी काम पर आलसी हो सकता है और आप खुद को टीम के सामने खुद को असुरक्षित महूसस कर सकते है। ऐसे में इस तरह के लोगों के बारे में शिकायत करने से बचें। अपने सहयोगी की अयोग्यता अर्थात कमी को अपने मालिक या फिर दफ्तर में रोजाना चर्चा करने से भी खुद को रोक लें। आप सहकर्मियों के साथ प्रबंधन करते समय हमेशा शिकायत का सहारा लेने की जगह उनके काम को सुधारने की तरीके खोजना अधिक बेहतर रहता है। इसके अतिरिक्त अगर आप में भी कोई अयोग्यता है तो टीम में व बॉस के सामने उसका जिक्र ना ही करना आपके करियर के लिए बेहतर है।



वेतन : आपको कंपनी कितना पैसा दे रही है इससे आपके सहयोगियों का कोई संबंध नही है जैसे ही आपके सहयोगी यह जान लेते है की आप कितना पैसा कमाते है वे तुलना करनी शुरू कर देते है। आप उनसे अधिक कमाते है यह बात सहयोगियों के मन में नकारात्मकता को जन्म दे सकती है। इस बात का कोई फर्क नही पड़ता है कि आपका काम कितना चुनौतीपूर्ण व् मुश्किल है अपितु वेतन का खुलासा आपके विपरीत ही जायेगा।



धार्मिक विश्वास: व्यक्ति के धर्म और मजबूत को लेकर ऑफिस में भिड़ने की जरूरत हरगिज नही है। इन बातों पर चर्चा करना व्यक्ति के साथ आपके रिश्ते को प्रभावित कर सकते हैं। जब आप इन बातों पर चर्चा करते है तो धर्म पर आपके विचार सामने वाले को अपमान के रूप में लग सकते है। इस विषय पर राय देना और चर्चा करना ऑफिस के लिए उपयुक्त नही है। इसके अतिरिक्त आपकी अपनी कौन सी धर्मिक मान्यता में विश्वास करते है इस बात का जिक्र ऐसे ही ना करें।



लक्ष्य : आप ऑफिस में प्रमोशन पाने के लिए किसी अन्य टीम को स्थानांतरित करने के लिए कड़ी मेहनत कर रहे या फिर लक्ष्यों पर ध्यान केंद्रित कर किसी अन्य कंपनी के जाने की योजना बना रहे है ऐसे मामले में लक्ष्य प्राप्त करने से पहले चुप रहना ही बेहतर माना जाता है। व्यक्तिगत लक्ष्यों पर ध्यान केंद्रित करना अच्छी बात है लेकिन इसका खुलासा सबके सामने करना सहकर्मियों के साथ अच्छे व्यवहार के लिहाज से उचित नही है क्योकि इसमें सहकर्मी या फिर उनके द्वारा खुलासा करने पर आपका लक्ष्य बाधित हो सकता है।



आप कंपनी के शिकार है : आप किसी कड़े बांड पर हस्ताक्षर कर चुके है या फिर बॉस के बर्ताव से खुश नही है या फिर अपने वेतन को लेकर कोई शिकायत है हमेशा अपने सहकर्मियों के साथ इसकी शिकायत करते रहने अपके करियर के लिए बिलकुल उचित नही है। सहकर्मियों के साथ बार-बार यह जताने से आप कंपनी के शिकार है। आपके इस सोच का ज्ञान सबको अच्छे से हो जाता उसके बाद आपकी हर शिकायत को सहकर्मी और बॉस हल्के में लेने लग जाते है जो आपकी प्रमोशन में अकसर रुकावट बन जाती है।

और पढ़े

Comment Box

    User Opinion
    Your Name :
    E-mail :
    Comment :

Category

अच्छे और सफल पिता बनने के नियम


आँख से संपर्क


कार्यालय


किशोर


कॉलेज


गर्लफ्रेंड समस्याएं


चुंबन


डेटिंग टिप्स


त्यौहार


दुल्हे और दुल्हन


दोस्त


नवजात बेबी के परवरिश करने के टिप्स


पति और पत्नी


पिता


पुरुष


पुरुषों के टिप्स


प्यार


प्रेम


फोरप्ले


फ्लर्ट


बच्चे


मर्दों के लिए टिप्स


महिला


महिलाओ के लिये टिप्स


रिलेशनशिप


रोमांस


लड़का


लड़कियों के बात करने के टिप्स


लड़कियों के लिये टिप्स


लड़की


लव बाइट


वयस्क


वर्जिनिटी


विवाह


वेलेंटाइन


शादी का दिन


सिड्‍यूस विज्ञान


सुबह सेक्स के लिए टिप्स


सुहागरात


सेक्स


सेल्फ हेल्प टिप्स


हिक्की


होठ


पति और पत्नी रिलेशनशिप


पुरुष


बॉयफ्रेंड और गर्लफ्रेंड


रोमांटिक


शादीशुदा जिंदगी


शादीशुदा जीवन में तनाव


स्त्री / महिला